Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

देश विदेश में फैल रहा पुष्कर के काले जामुन का स्वाद, देख कर आपके भी मुंह में आ जाएगा पानी

Patrika news network Posted: 2017-07-13 13:22:32 IST Updated: 2017-07-13 13:22:32 IST

देश विदेश में फैल रहा पुष्कर के काले जामुन का स्वाद, देख कर आपके भी मुंह में आ जाएगा पानी
  • जिले के पुष्कर क्षेत्र के काले जामुन की देशभर में डिमांड है। नई दिल्ली की मंडी में भी गुजरात एवं पंजाब के जामुन से पहले इसकी खरीद होती है। इसकी वजह यह है कि यहां का जामुन देशी होने के साथ यह स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद है।

अजमेर.

जिले के पुष्कर क्षेत्र के काले जामुन की देशभर में डिमांड है। नई दिल्ली की मंडी में भी गुजरात एवं पंजाब के जामुन से पहले इसकी खरीद होती है। इसकी वजह यह है कि यहां का जामुन देशी होने के साथ यह स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद है। पुष्कर सहित आसपास के क्षेत्र के करीब 200 किसानों की आजीविका का मुख्य साधन जामुन की खेती है।

जामुन की खेती मौसम की अनुकूलता पर अधिक निर्भर है। पर्याप्त बारिश के साथ गर्मी भी अच्छी होने पर उत्पादन बढ़ता है। मगर गर्मी के दिनों में अंधड़, तूफान आने पर जामुन को खासा नुकसान होता है। इस वर्ष भी जामुन का उत्पादन बीते वर्ष के मुकाबले कम हुआ है। जामुन के पेड़ अधिकांशत: पांच साल बाद फल देना शुरू करते हैं तो इसके बाद साल-दर-साल उत्पादन बढ़ता जाता है।

यहां है सर्वाधिक जामुन की खेती

पुष्कर के साथ गनाहेड़ा, मोतीसर, देवनगर, बांसेली सहित आसपास के गांवों में जामुन के फार्म हाउस ज्यादा है। खेतों में जामुन के पेड़ों की अधिकता के चलते अन्य फसलों का उत्पादन नहीं के बराबर होता है। यहां के अधिकांशत: किसान जामुन की खेती पर निर्भर है।

जामुन उत्पादन से आमदनी

प्रति किसान एक सीजन में जामुन से करीब डेढ़ से दो लाख रुपए तक कमा लेता है। अगर 50 से अधिक पेड़ हैं तो करीब दो माह तक उत्पादन होता है। पुष्कर में 200 किसान इससे जुड़े हैं। पुष्कर क्षेत्र में करीब 3 से 4 करोड़ की आमदनी जामुन से है। यह अच्छी क्वालिटी पर निर्भर है। वर्तमान में जामुन के भाव 50 से 70 रुपए किलोग्राम तक है।

अंधड़ से हुआ नुकसान

किसान मुकेश नाथ के अनुसार इस बार सीजन के समय अंधड़ व धूलभरी आंधी चलने से जामुन का फाल गिर गया। इससे उत्पादन प्रभावित हुआ है। उन्होंने बताया कि भू-जलस्तर गिरने से भी जामुन के पेड़ों में सिंचाई की समस्या आ रही है।

गुटली से बनती है डायबिटीज की दवा

जामुन खाने से तो डायबिटीज रोग दूर होता है, डायबिटीज वालों के लिए प्रिय फल के रूप में जामुन स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है। यही नहीं इसकी गुटली (बीज) को भी सुखाकर इसका पाउडर तैयार किया जाता है, जिसे पानी के साथ गिटकने पर डायबिटीज कंट्रोल होता है।

rajasthanpatrika.com

Bollywood