Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

patrika campaign- हर बच्चा सर्वज्ञ है , जुड़ें पत्रिका के साथ और हमें बताए आखिर कैसे सुधरे यातायात व्यवस्था

Patrika news network Posted: 2017-06-19 09:46:12 IST Updated: 2017-06-19 09:47:32 IST
patrika campaign- हर बच्चा सर्वज्ञ है , जुड़ें पत्रिका के साथ और हमें बताए आखिर कैसे सुधरे यातायात व्यवस्था
  • शहर की बेतरतीब यातायात व्यवस्था एक और मासूम को लील गई। शहर का हर बच्चा सर्वज्ञ है और उसकी जान खतरे में दिखाई पड़ रही है। इससे पहले भी ऐसे हादसे होते रहे हैं और संभवत: भविष्य में भी होते रहेंगे।

उपेन्द्र शर्मा /अजमेर.

शहर की बेतरतीब यातायात व्यवस्था एक और मासूम को लील गई। शहर का हर बच्चा सर्वज्ञ है और उसकी जान खतरे में दिखाई पड़ रही है। इससे पहले भी ऐसे हादसे होते रहे हैं और संभवत: भविष्य में भी होते रहेंगे। हमारे जैसे लापरवाह शहरियों के साथ यही होना लिखा है। ईमानदारी से अपने दिल पर हाथ रख कर कहिए कि हममें से कितने लोग सतर्कता के साथ वाहन चलाते हैं।

तेज स्पीड तो युवाओं का पसंदीदा खेल बन गया है। स्कूली बच्चों को ऑटोरिक्शा और वेन्स में ठूंस-ठूंस कर हम स्कूल भेजते हैं। ज्यादातर स्कूलों की छुट्टी जब होती है, तो बच्चों को तेज गति से गुजरते वाहनों के बीच से निकलना पड़ता है। इसके बावजूद न स्कूलवालों को कोई फर्क पड़ता है, न अभिभावकों को और न ही वहां से गुजरने वाले वाहन चालकों को। कहीं परिवहन और यातायात पुलिस के लोगों की नजरों के सामने ही अवैध ट्रेक्टर, जीपें चल रही हैं, तो कहीं आधी रात को शराब पीकर मदमस्त होकर लोग वाहन चला रहे हैं।


 क्या प्रशासन या पुलिस के स्तर पर कोई भी कार्रवाई सिर्फ तभी होनी चाहिए, जब ऐसे क्रूरतम हादसे हों। क्या वाहन चलाने से पहले हर व्यक्ति यह सोचकर ठीक ढंग से ड्राइविंग नहीं कर सकता कि यह एक बेहद जिम्मेदारी भरा काम है। इसे हल्के अंदाज से नहीं लिया जाना चाहिए। क्या हमारे शहर में कोई भी व्यक्ति ट्रेफिक के नियमों का अनुसरण करते हुए वाहन चलाता है, शायद नहीं। हेलमेट पहनने, बायीं तरफ चलने, लाल बत्ती पर रुकने, धीमी गति जैसे मामूली से नियमों का भी अनुसरण कर लिया जाए, तो संभवत: कई सारी दुर्घटनाओं से बचा जा सकता है।


 दूसरी ओर इस एक घटना से ही पुलिस और परिवहन विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों को सबक लेना चाहिए कि उनकी नजरों के सामने से कोई अवैध वाहन न गुजरे, कोई गलत ढंग से ड्राइविंग न करे... क्योंकि हर बच्चा कभी न कभी सड़क पर आता है और उसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी हम सब पर है...।

फादर्स डे से पहले बिखरी खुशियां, ट्रेक्टर ने छीनी भाजपा पार्षद बेटे की जिंदगी

शहर की यातायात व्यवस्था कैसे सुधरे, हमें बताएं : सुझाव भेजने के लिए 9799190015 और 9829266008 पर व्हाट्सएप करें। कृपया इन नम्बरों पर कॉल नहीं करें।

rajasthanpatrika.com

Bollywood