Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

आनंदपालसिंह एन्काउन्टर: 20 दिन से था टेंशन, आखिर सांवराद में हुआ अंतिम संस्कार

Patrika news network Posted: 2017-07-14 04:31:08 IST Updated: 2017-07-14 04:31:08 IST
आनंदपालसिंह एन्काउन्टर: 20 दिन से था टेंशन, आखिर सांवराद में हुआ अंतिम संस्कार
  • सांवराद में कफ्र्यू के बीच तनावपूर्ण हालात। केवल एक घंटे की ढील देकर पुलिस ने कराया आनंदपाल के शरीर का अंतिम संस्कार, गांव में भारी पुलिस बल रहा तैनात।

अजमेर/लाडनूं/डीडवाना/नागौर।

 गैंगस्टर आनंदपालसिंह एनकाउंटर प्रकरण की सीबीआई जांच सहित अन्य मांगों को लेकर चल रहे विरोध के बाद राज्य मानव अधिकार आयोग के आदेश पर आखिर 20वें दिननिकट के रिश्तेदारों की उपस्थिति में आनंदपाल के शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया।

सूत्रों के अनुसार आनंदपाल की मां, पत्नी तथा बेटी योगिता सहित अन्य परिजनों ने उनकी मांगें माने बिना अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया। परिजनों ने आनंदपाल के बेटे को भी अंतिम संस्कार में नहीं भेजा। बताया जा रहा है कि आनंदपाल के मामा मोहनसिंह, अमरसिंह, मामा के बेटे रणजीतसिंह व मौसी के बेटे गजेन्द्रसिंह को समझाइश कर अंतिम संस्कार के लिए तैयार किया गया। इसके बाद गांव व रिश्तेदारी के करीब 40-50 लोगों की उपस्थिति में अंतिम संस्कार कर दिया। चिता को एपी के चाचा ने मुखाग्नि दी। गौरतलब है कि बुधवार को हुए उपद्रव में रोहतक निवासी लालचंद शर्मा की मौत हो गई थी तथा चार दर्जन लोग घायल हो गए थे।

बुधवार को श्रद्धांजलि सभा के बाद हुए उपद्रव के बाद बिगड़ी स्थिति एवं मानवाधिकार आयोग के नोटिस पर पुलिस के दबाव के चलते देर शाम आनन-फानन में पुलिस व प्रशासन की उपस्थिति में अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान कफ्र्यू में एक घंटे की ढील भी दी गई तथा पुलिस की ओर से गांव में मुनादी भी कराई गई कि यदि कोई ग्रामीण चाहे तो अंतिम संस्कार में शामिल हो सकता है। बावजूद इसके अंतिम संस्कार में गिने-चुने लोग ही शामिल हुए। इस दौरान पुलिस ने मीडियाकर्मियों को भी सांवराद में प्रवेश नहीं करने दिया।

परिजनों की मांगों को लेकर अलग-अलग बातें सामने आईं।

सूत्रों के अनुसार राजपूत समाज से जुड़े पुलिस के आला अधिकारी ने मध्यस्ता करते हुए परिजनों को इस बात के लिए राजी किया कि यदि वे सीबीआई जांच की मांग को लेकर सरकार के समक्ष आवेदन पेश करेंगे तो उनकी मांग पर गंभीरता से गौर किया जाएगा। वहीं पुलिस के एक बड़े अधिकारी ने जयपुर में मीडिया को बयान दिया कि परिजन बिना शर्त अंतिम संस्कार के लिए राजी हो गए। इससे पहले पुलिस ने मानवाधिकार आयोग की ओर से दिए गए नोटिस के आधार पर गुरुवार दोपहर करीब 2 बजे परिजनों को नोटिस जारी करते हुए 24 घंटे में अंतिम संस्कार करने का अल्टीमेटम दिया।

सांवराद में कफ्र्यू के बीच रहे तनावपूर्ण हालात

गैंगस्टर आनंदपाल सिंह के एनकाउंटर की सीबीआई जांच सहित चार सूत्रीय मांग को लेकर बुधवार रात को हुए उपद्रव और हिंसा के बाद गुरुवार को सांवराद में दिनभर कफ्र्यू लगा रहा। इस दौरान गांव में तनाव की स्थिति बनी रही, जिसके चलते भारी पुलिस बल तैनात रहा। मौके पर पुलिस, एसटीएफ, आरएसी, क्यूआरटी कमांडो की कम्पनियां तैनात कर दी गई। आनन्दपाल सिंह के घर के आस-पास भारी पुलिस बल तैनात रहा।

कफ्र्यू के चलते गांव में बाहरी व्यक्तियों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई। इंटरनेट सेवा पर रोक की अवधि को भी बढ़ा दिया गया। बुधवार रात को हुई हिंसा के बाद आरोपितों की तलाश में रातभर पुलिस की टीमें दबिश देती रही। इसके तहत रातभर में पुलिस ने उपद्रव मचाने के आरोप में 211 आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया। वहीं 32 वाहनों को भी जब्त कर लिया गया। राज्य मानवाधिकार आयोग द्वारा शव का 24 घंटे में दाह संस्कार करने के आदेश के बाद पुलिस और प्रशासन हरकत में आ गया। इसके तहत उच्च अधिकारियों ने बैठक कर आनन्दपाल के परिजनों के नाम नोटिस जारी किया और शव का दाह संस्कार करने के निर्देश दिए। 

rajasthanpatrika.com

Bollywood