Breaking News
  • चित्‍तौड़गढ़ : निम्बाहेडा में अवैध रुप से गोवंश ले जाते दाे ट्रक जब्‍त, एक ग‍िरफ्तार एक फरार
  • प्रतापगढ़:पानी और सफाई की मांग पर महिलाओं का गुस्सा फूटा, मिनिसचिवालय पर प्रदर्शन किया
  • चूरू: एसबीबीजे बैंक में अज्ञात ने बैग में चीरा लगाकर निकाले 50 हजार रुपए
  • जोधपुर:भोपालगढ़ की अरटिया कलां सरपंच के खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज, सार्वजनिक चौक की जमीन की खुर्द बुर्द
  • अलवर: लूटपाट और दर्जनों ATM काटने में आरोपी को किया हथियार सहित गिरफ्तार
  • जयपुर:डोटासरा ने की विधायक मेघवाल, आनंदपाल और अन्य प्रकरणों की जांच सदन में रखने की मांग
  • जयपुर :अवैध सब्जी मंडी हटाने को लेकर वैशाली मार्ग पश्चिम व्यापार मंडल का प्रदर्शन
  • जयपुर: शाहपुरा में एम्बुलेंस और हरियाणा रोडवेज़ बस में भिड़ंत,आधा दर्जन लोग घायल
  • हनुमानगढ़: दहेज हत्या में पति और सास-ससुर को दस साल की सजा, गांव सलेमगढ़ मसानी का मामला
  • करौली: पांचना बांध में डूबने से दो जनों की मौत
  • पाली:जैतारण के गरनिया में वृद्धा के गले से सोने की कंटी लूटी
  • भीलवाड़ा: नाबाल‍िग से छेड़छाड़ के मामले मेें समुदाय व‍िशेष का युवक ग‍िरफ्तार
  • सवाईमाधोपुर: बाल कल्याण समिति से भागे बालक-बालिका
  • जोधपुर : टेकरा में डिस्कॉम के तकनीकी सहायक के साथ मारपीट, चिकित्सालय में भर्ती
  • जयपुर : योगा और प्राकृतिक चिकित्साधिकारी की होगी सीधी भर्ती, कार्मिक विभाग ने जारी की अधिसूचना
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

Search Results : hindi story

वह शख्स प्रार्थना में भगवान से मांगता था ऐसी चीज जो आज तक किसी ने नहीं मांगी!

इस जिंदगी के विरोधाभास को जो समझ लेगा, उसने जीवन का सारा राज समझ लिया। दुख चुनौती है, विकास का अवसर है। यह अनिवार्य है। इसके बिना तुम जागोगे नहीं। कौन जगाएगा तुम्हें?

कलियुग में जिस इन्सान को नहीं दिखाई देता भगवान का ये वरदान, वह भोगता है दुख

भिखारी ने नोट को टटोलकर देखा और समझा कि किसी आदमी ने उसके साथ मजाक किया है क्योंकि आज से पहले किसी ने भी उसे इतना बड़ा नोट भीख में नहीं दिया था।

उस साधु के पास थी ऐसी सिद्धि, कदम रखता तो पानी पर भी चल सकता था!

महात्माजी खड़े हुए और पानी की सतह पर चलते हुए लंबा चक्कर लगाकर वापस स्वामीजी के पास आ खड़े हुए। स्वामीजी ने आश्चर्यचकित होते हुए पूछा- महात्माजी, यह सिद्धि आपने कहां और कैसे पाई?

कहते हैं ऋषि और विद्वान, जो करता है यह भूल, उसे कभी नहीं होते सफलता के दर्शन

पर्ची के अनुसार वह कंकड़ उस जैसे दिखने वाले हजारों दूसरे कंकड़ों के साथ एक सागरतट पर पड़ा हुआ था। कंकड़ की पहचान यह थी कि दूसरे कंकडों की तुलना में वह थोड़ा गरम प्रतीत होता।

कथाः गुरु ने राजा को ऐसा दंड क्यों दिया कि वह कभी भूल नहीं सका?

'आपने मुझे अकारण ही कठोर दंड क्यों दिया? आप भली-भांति जानते थे कि मैंने कोई भी गलती या अपराध नहीं किया था।'

अक्ल बड़ी या भैंस? यह कहानी पढ़ें और खुद जानें

वहीं खड़े एक दुबले-पतले व्यक्ति ने मैदान में उतरने का निर्णय लिया और पहलवान के सामने जा खड़ा हो गया। उस व्यक्ति ने चतुराई से काम लिया और उस पहलवान के कान में कहा...

जीवन में चाहते हैं सभी सुख तो जल्द ढूंढ़ लें यह चीज

जीवन में कभी भी ऐसा नहीं होता कि बहुत देर हो गई हो। जीवन के आखिरी क्षण तक संभावना बनी रहती है।

काम के दबाव में कर बैठे ये भूल तो भुगतने होंगे बुरे परिणाम

पढ़िए सकारात्मक जीवन का संदेश देने वाली एक कथा और जानिए काम के दौरान जीवन में और क्या जरूरी है।

जो चलता है ऐसी चाल, कामयाबी उससे रहती है कोसों दूर

बहुत समय पहले की बात है। एक गांव में एक अमीर आदमी रहता था। वह चाहता था कि उसका बेटा भी पढ़-लिखकर सारा कारोबार संभाले।

Astrology

  • मेष

  • वृषभ

  • मिथुन

  • कर्क

  • सिंह

  • कन्या

  • तुला

  • वृश्चिक

  • धनु

  • मकर

  • कुंभ

  • मीन

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें