Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

Search Results : Pollution

Video : औद्योगिक हब भिवाड़ी में हालात खराब : 400 यूजी पहुंचा प्रदूषण का स्तर

प्रदूषण तय मानक 100 यूजी की तुलना में करीब 200 यूजी तक पहुंचने लगा है। कुछ एेसे ही हालात एमआईए क्षेत्र के भी हैं, लेकिन बीते छह माह में प्रदूषण की यह भयावह तस्वीर खुद प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के आंकड़े उजागर कर रहे हैं।

बारिश से जोधपुर लबालब, जोजरी नदी खाली, नालों को लेकर बनी कागजी योजनाओं की शहर भुगत रहा सजा

अतिवृष्टि और बाढ़ के समय वर्षा जल की सुरक्षित निकासी के लिए नगर निगम की ओर से बनाई गई योजना आज भी अधूरी है। बरसाती नालों के पानी निकासी की उचित व्यवस्था नहीं होने के कारण शहर की सड़कें दो इंच बारिश में ही लबालब हो रही हैं।

मानसागर का प्रदूषण बना हजारों मछलियों का काल

जयपुर के मानसागर का पानी प्रदूषित होने से हजारों मछलियां काल का ग्रास बन गई।

कपडा उद्योग में फिर शुरू हुआ खेल, व्यवस्थाएं बिगाड़ने की साजिशें

- सीईटीपी के पदाधिकारियों ने जांच की तो आया सामने

राजस्थान के इन दो शहरों की आबोहवा सेहत के लिए हानिकारक है, जानिए कौन-से शहर हैं ये ..

प्रदेश के सात बडे़ शहरों में आठ सीएएक्यूएमएस बता रहे प्रदूषण की स्थिति.

रोटरी क्लब ने की सघन पौधारोपण की शुरुआत

अपर जिला एवं सैशन न्यायाधीश ने कहा कि पेड़-पौधे प्राण वायु है। बढ़ते प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए प्रत्येक को एक पौधा लगाकर उसकी देखभाल की जिम्मेदारी लेनी चाहिए।

कोटा से सीखिए ग्लोबल वार्मिंग से लड़ना

राजस्थान पत्रिका के हरा-भरा हो कोटा अपना पौधारोपण अभियान के तहत मंगलवार को चम्बल हॉस्टल एसोसिएशन की ओर से कोटा के कुन्हाड़ी कोचिंग क्षेत्र में पौधारोपण किया गया। समारोह में मुख्य अतिथि गुजरात के अरावली की कलक्टर शालिनी अग्रवाल रही, जिन्होंने कोचिंग स्टूडेंट्स के साथ यहां पौधारोपण किया।

औचक निरीक्षण से 15 मिनट पहले दी सूचना, नेता-व्यापारियों और किसानों से लिया फीडबैक

- दो प्लांट और दो इकाइयों में देखी व्यवस्थाएं - शहर के समीप पहुंच क्षेत्रीय अधिकारी को बाइपास पर बुलाया

बंद हो सकती है जिले की सबसे बड़ी दूध डेयरी

- 110 केएलडी पानी होता है डिस्चार्ज - नोटिस जारी कर पानी-बिजली कनेक्शन काटने को भी कहा

देश के कोने-कोने से आए हजारों स्टूडेंट्स ने कोटा में लगाई ऑक्सीजन फैक्ट्री

सब कुछ अपने आप हो रहा था। कोई गेंती-फावड़ा लेकर गड्ढा खोद रहा था तो कोई तगारी हाथ में लेकर मिट्टी डाल रहा था। कोई उन गड्ढों में 'संकल्प का रोपण यानी पौधरोपण कर रहा था तो कोई उन रोपे हुए पौधों को जल से सींच रहा था।

Astrology

  • मेष

  • वृषभ

  • मिथुन

  • कर्क

  • सिंह

  • कन्या

  • तुला

  • वृश्चिक

  • धनु

  • मकर

  • कुंभ

  • मीन

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें