शीतला माता की पूजा-अर्चना का विधान भी अनोखा  होता है। शीतलाष्टमी के एक दिन पूर्व उन्हें भोग लगाने के लिए विभिन्न प्रकार के पकवान तैयार किए जाते हैं। अष्टमी के दिन बासी पकवान ही माता को समर्पित किए जाते हैं। सभी भक्त प्रसाद के रूप में बासी भोजन का ही आनंद लेते हैं। प्रदेश में सबसे बड़ा शीतलाष्टमी का मेला जयपुर के चाकसू में स्थित शील की डूंगरी पर भरता है। शीतलाष्टमी पर शीतला माता के मंदिर में श्रद्धालुओं की भीड़। आइए तस्वीरों में देखते हैं प्रदेशभर का शीतलाष्टमी पूजन...

Astrology

  • मेष

  • वृषभ

  • मिथुन

  • कर्क

  • सिंह

  • कन्या

  • तुला

  • वृश्चिक

  • धनु

  • मकर

  • कुंभ

  • मीन

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें