(रमेश गौड़ /सरदारशहर) चूरू जिले की सरदारशहर तहसील के तीन गांव ऐसे हैं जिनमें घरों की छत पर कोई अतिरिक्त कमरा नहीं बनाया जाता। वजह है अपनों की मौत का डर। वर्षों पुरानी दहशत। मौत ही नहीं बल्कि अन्य कई परेशानियों से भी जूझना पड़ता है। ऐसे में छत पर कमरे बनाने की हिम्मत तीनों ही गांवों में कोई परिवार नहीं जुटा पा रहा है। ये तीन गांव हैं मालसर, बादडिय़ा और उड़सर लोडेरा। .... आगे देखें अधिक तस्वीरें

-----

गांववाले  बताते हैं इसके पीछे की यह कहानी


ग्रामीणों की अनुसार गांव मेहरी के जागीरदार गुदड़सिंह राजवी के पांच बेटे थे। उन्होंने पांचों पुत्रों को मेहरी, डालमाण, कोहिणा, मालसर व बादडिय़ा की जागीरदारी सौंपी। राजवी के बादडिय़ा जागीदार पौत्र भैरोसिंह की पत्नी महारानी कुनण कंवर एक दिन छत पर थी। तब उनका पड़ौसी अपने कमरे की छत पर चढ़ा तो कुनण कवंर पर उसकी दृष्टि पड़ी। यह देखकर कुनण कंवर ने ग्रामीणों को बादडिय़ा व मालसर गांव में छत पर माळिया व अन्य निर्माण नहीं कराने का आग्रह किया।

VIDEO

-----

 

जिसने भी किया प्रयास, अपनों की गई जान


-ग्रामीणों ने बताया कि इसी परिवार को मालसर जांगीरदार गोपाल सिंह राजवी ने 100 वर्ष पूर्व इस परम्परा को तौड़ते हुए अपने घर की छत पर कमरा बनवाया।

-निर्माण पूरा होने से पहले ही उसके भाई मदनसिंह की मौत हो गई। जिसके कारण मकान खाली करना पड़ा तथा विभिन्न परेशानियों से गुजरना पड़ा।

-मालसर के खुमाणाराम बांगड़वा ने 45 साल पहले छत पर कमरा बनाने का प्रयास किया तो उसकी पुत्रवधू की मौत हो गई।

-22 वर्ष पहले सुखदेवाराम ने छत्त पर दो कमरों का निर्माण कार्य शुरू किया तो दो पुत्र वधूओं की मौत हो गई।

-20 साल पहले सुरजाराम भादू ने निर्माण कार्य शुरू किया तो उसके पौत्र की मौत हो गई।

-20 वर्ष पूर्व मनीराम भादू ने निर्माण शुरू किया तो उसकी पुत्र वधू पागल हो गई।

-2 दो वर्ष पूर्व मालसर गांव के इमरताराम पुरेाहित ने निर्माण शुरू किया तो उसकी स्वयं की मौत हो गई।

- उड़सर लोडेरा गांव में चार सौ साल पहले गांव के सारण जाति के एक व्यक्ति की गायों की रक्षा करते वक्त उसकी मौत हो गई।

-उनकी पत्नी ने पति के साथ जौहर करने का प्रयास किया तो परिवार के लोगों ने छत पर बने कमरा में बन्द कर दिया।

-----

हमारे गांव में पिछले 163 साल से यह डर है कि छत पर जो भी कमरा बनवाएगा। उसके घर में किसी की मौत होगी या कोई मुसीबत आएगी। गांव के सात जनों ने कमरा बनवाया चाहा तो उन्हें परिणाम भुगतना पड़ा। उनके घरों के छतों पर आज भी कमरे का निर्माण अधूरा पड़ा है।

-सीताराम मेघवाल, सरपंच, मालसर


VIDEO

Astrology

  • मेष

  • वृषभ

  • मिथुन

  • कर्क

  • सिंह

  • कन्या

  • तुला

  • वृश्चिक

  • धनु

  • मकर

  • कुंभ

  • मीन

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें