निरंजन पारीक/ फतेहपुर. उम्र सात साल...और उपलब्धि एवरेस्ट के बेस कैम्प तक पहुंचना। ये लिटिल चैम्प है फतेहपुर निवासी व पूना प्रवासी उद्योगपति राधेश्याम भरतिया का पौत्र अद्वैत। अद्वैत इसी महीने की 13 तारीख को अपनी मम्मी पायल व अन्य के साथ एवरेस्ट फतह के लिए निकला था। ... आगे देखें अधिक तस्वीरें

-----

-13 दिन की कठिन राह के बाद 26 नवंबर को 17 हजार 593 फीट की ऊंचाई चढ़कर अद्वैत ने बैंस कैम्प पार कर लिया।

-पूने से फोन पर अद्वैत के दादा राधेश्याम भरतिया ने बताया कि अद्वैत अपनी मम्मी के साथ सुबह छह बजे बेस कैम्प के लिए रवाना होता और शाम छह बजे तक चढ़ाई तय करता।

-13 दिन तक यह सिलसिला चलता रहा।  इतना ही नहीं सात साल का अद्वैत सात भाषाओं में भी पारंगत है।

-वह हिन्दी, अंग्रेजी, स्पेन, जर्मनी, मराठी, चाइनीज तथा राजस्थानी भाषा बखूबी बोल लेता है। संगीत कला में भी माहिर है।

-राधेश्याम भरतिया बताते हैं कि अद्वैत की मम्मी पायल पर्वतारोही है।

-इसी कारण अद्वैत को इसका शौक लगा और इतनी छोटी सी उम्र में यह उपलब्धि हासिल कर ली।

-उल्लेखनीय है कि अद्वैत का परिवार सीकर के फतेहपुर का मूल निवासी है।

-यहां उसके दादा, पड़दादा ने भरतिया अस्पताल सहित कई जनकल्याण के कार्य करवाए हैं।

Astrology

  • मेष

  • वृषभ

  • मिथुन

  • कर्क

  • सिंह

  • कन्या

  • तुला

  • वृश्चिक

  • धनु

  • मकर

  • कुंभ

  • मीन

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें