Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

पंढरपुर. सनातन संस्कृति में देवी-देवताओं के पूजन की परंपरा है। वास्तव में सभी देवता परमात्मा की विशेष शक्ति का एक प्रतीक हैं। इनका पूजन भगवान का ही पूजन है। भारत भूमि में भगवान ने कई अवतार लिए हैं। राम, कृष्ण आदि अवतारों के अलावा लोकदेवाओं के रूप में भी भगवान का प्राकट्य हुआ है।



अगली स्लाइड्स में पढ़िए, उस मंदिर की कथा जहां कृष्ण के साथ होती है रुक्मिणी की पूजा 



Astrology

  • मेष

  • वृषभ

  • मिथुन

  • कर्क

  • सिंह

  • कन्या

  • तुला

  • वृश्चिक

  • धनु

  • मकर

  • कुंभ

  • मीन

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें