अनीता जैन

जयपुर. सनातन धर्म में प्राचीन काल से ही दैहिक, दैविक एवं भौतिक कष्टों के निवारण के लिए देवी-देवताओं की अलग-अलग रूपों में पूजा करने का विधान अनेक धर्मशास्त्रों में बताया गया है। ऐसा ही एक रूप है भगवती स्वरूपा मां शीतला देवी का, जिनकी आराधना अनेक संक्रामक रोगों से मुक्ति प्रदान करती है। मां शीतला देवी की पूजा चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को की जाती है। इस वर्ष यह पर्व 20 मार्च (सोमवार) को मनाया जाएगा।



अगली स्लाइड में पढ़िए कैसे करें मां शीतला का पूजन




Astrology

  • मेष

  • वृषभ

  • मिथुन

  • कर्क

  • सिंह

  • कन्या

  • तुला

  • वृश्चिक

  • धनु

  • मकर

  • कुंभ

  • मीन

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें